Latest Nuskhe

loading...

पेट के कीड़े मारने की आयुर्वेदिक नुस्खे, pet ke kide marne ki ayurvedic nuskhe

pet ke kide marne ki ayurvedic nuskhe
pet ke kide marne ki ayurvedic nuskhe

पेट के कीड़ों को पेट में ही नष्ट करने का घरेलू उपाय

पेट में कीड़ों की समस्या अधिकतर छोटे बच्चों में देखी जाती है परंतुऐसा बिल्कुल नहीं है कि यह छोटे बच्चों के अलावा बड़ों में नहीं होती।यह समस्या यानी पेट में कीड़े पड़ने की समस्या छोटे या बड़े किसी कोभी उत्पन्न हो सकती है

पेट में कीड़े होने के लक्षण और आयुर्वेदिक इलाज

इस समस्या में मानव शरीर के पेट में कीड़ेउत्पन्न हो जाते हैं और मानव द्वारा खाया गया भोजन मानव के बजायपेट में पनप रहे कीड़ों की भूख मिटाता है। जिससे धीरे धीरे मानव कोशरीर में कमजोरी व जल्दी थकान सी महसूस होने लगती है।

 पेट मेंकीड़े पड़ने से समस्या से ग्रसित व्यक्ति के पाचन क्रिया पर भारी असरपड़ता है या कहे कि पाचन क्रिया कमजोर होने लगती है

पेट के कीड़ों को नष्ट करने का घरेलू उपाय

पीड़ितव्यक्ति में पाचन क्रिया के कमजोर होने से व्यक्ति को भूख भी कमलगती है। इस रोग की पहचान अधिकतर तब हो पाती हैजब किसी व्यक्ति को कभी अचानक से पेट में दर्द हो उठता है और तब किसी चिकित्सक के माध्यम से जांच कराने पर पता लगता है कि पेट में कीड़े या क्रमी उत्पन्न हो गए हैं। यदि चर्चित समस्या का उचित समय पर उचित उपचार न किया जाए तो यह कीड़े कुछ समय के बाद फेंफडों तक पहुंच जाते हैं जो आगे चलकर अस्थमा की समस्या को जन्म देते हैं।

इस समस्या को छोटे बच्चों में पहचान करने का एक लक्षण है कि यह समस्या जब किसी छोटे बच्चे को उत्पन्न होती हैं तो उनके शारीरिक विकास में रुकावट आने लगती है और पेट में कीड़े होने से बच्चे अधिकांश पेट में दर्द होने की शिकायत करते हैं।
पेट में व आंतों में पनप रहे कीड़ों की छुट्टी कर देगा यह घरेलू उपचार
छोटे बच्चों व बड़े लोगों के पेट में कीड़े होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे कम पका हुआ भोजन या संक्रमित जलपान करना या साफ सफाई का ध्यान ना रखने से भी कीड़े आंतों में पनपने लगते हैं।

पेट में कीड़े होने के लक्षण

1.  वजन कम होना
2. जी मिचलाना या उल्टी आना
3. पेट दर्द होना
4. जीभ सफेद होना
5. मुंह से दुर्गंध आना
6. आंखें लाल होना
7. गुप्तांगों पर खुजली होना
8. गालों पर धब्बे होना
9. मल त्याग करते समय खून आना या रक्त स्त्राव होना
10.  दस्त लगना

पहला उपचार
3 साल से 5 साल तक के बच्चों के लिए उपचार
अजवाइन का चूर्ण आधा ग्राम की मात्रा में लेकर समभाग गुड में गोली बनाकर दिन में 3 बार खिलाने से सभी प्रकार के पेट के कीड़े नष्ट हो जाते है।

pet ke kide marne ki ayurvedic ilaj

दूसरा उपचार प्रातः उठते ही बच्चों को 10 ग्राम और बड़े व्यक्तियों को 25 ग्राम गुड़ खाकर 12 से 15 मिनट आराम करें इससे आंतों में चिपके हुए सभी कीड़े निकल कर एक जगह जमा हो जाएंगे फिर बच्चों आधा ग्राम और बड़ों को 1 से 2 ग्राम की मात्रा में अजवाइन का चूर्ण बासी पानी के साथ खाएं इससे आंतों में मौजूद सभी प्रकार के कीड़े नष्ट होकर मल के साथ मल के रास्ते से शीघ्र ही बाहर आ जाएंगे।

pet ke kide marne ki ayurvedic nuskhe

तीसरा उपचार अजवाइन का चूर्ण आधा ग्राम की मात्रा में चुटकी भर काला नमक मिलाकर रात के समय नित्य गर्म पानी के साथ देने से बालकों के कृमि नष्ट हो जाते हैं व बड़े व्यक्ति अजवाइन का चूर्ण 4 भाग व काला नमक की मात्रा एक भाग तैयार मिश्रण में से 2 ग्राम चूर्ण गर्म पानी के साथ सेवन करें।

पेट के कीड़े मारने की आयुर्वेदिक इलाज

विशेष दूषित जल के सेवन से बच्चों के पेट में कृमि से बचने के लिए भी इस विधि से सेवन करना चाहिए इससे वायु गोला और अफारा का नाश होता है।

पेट के कीड़े मारने की आयुर्वेदिक नुस्खे

चौथा उपचार केवल अजवाइन का चूर्ण आधा ग्राम की मात्रा में60 से 70 ग्राम की मात्रा में मट्ठे या छाछ के साथ और बड़े व्यक्तियों को2 ग्राम की मात्रा में 125 ग्राम मट्ठे के साथ देने से पेट के कीड़े नष्टहोकर मल के साथ बाहर निकल जाते हैं।

पेट के कीड़े मारने की आयुर्वेदिक दवा

विशेष  3 दिन से 1 सप्ताह तक आवश्यकतानुसार लें। इससे पेट के कीड़े  दूर  होकर  बच्चों का सोते समय दांत किटकिटाना और चबाना दूरहोता है अजवाइन एक कृमिनाशक अत्यंत उत्तम औषधि है। मिठाई, गरिष्ट पदार्थ, नशीले पदार्थ का सेवन बंद कर दें। टाफी, चॉकलेट औरमीठी वस्तुओं का सेवन बंद कर दें। जिन व्यक्तियों को रात में बार - बारपेशाब करने की आदत हो उन्हें भी इससे लाभ मिलता है कृमी  जन्य सभी  विकार  दूर होने के  साथ साथ अर्जीण आदि रोग भी कुछ दिनों में दूर हो जाते हैं।

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !!
आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।
EmoticonEmoticon