संभोग के बाद आई कमजोरी को दूर करने के आयुवेर्दिक नुस्खा, sambhog ke baad kamajoree ko door karane ke aayuverdik nuskha



संभोग के बाद थकान और कमजोरी के कारण

संभोग के बाद कमजोरी महसूस होती है तो करें विशेष नुस्खे का सेवन आप हो जायेंगे पावरफुल

सर्दी का मौसम आते ही शादी ब्याह शुरु हो जाते हैं और जो पुराना शादी शुदा जोड़े है वो भी बिना बीवी का नहीं रह सकते और थोड़ी से बात पर ही गरम हो जाते है और अपनी वीर्य और धातु का नुक्सान करते रहते हैं

संभोग के बाद कमजोरी के कारण

आज के समय में संयम नाम की चीज ही नहीं है और संभोग करने के बाद कुछ लोग ऐसे ही सो जाते है और सुबह जब उठाते है तो कमजोरी महसूस करते हैं यहाँ हम आपको ऐसे ही कुछ विशेष नुस्खे बताने जा रहे है जिनके सेवन से आपको कभी भी कमजोरी महसूस नहीं होगी

संभोग के बाद कमजोरी की आयुर्वेदिक नुस्खे

आप कितनी भी पावर प्राप्त करने के लिए बाजीकारक औषधियों का सेवन कर सकते हैं।तो आज हम विशेष नुस्खे बताने जा रहे है जिन्हें आप प्रयोग करते रहे तो आपके शरीर में वीर्य की बढ़ोत्तरी ही होगी। इन औषधियों को आप संभोग के बाद भी प्रयोग कर सकते हैं।
सफेद मूसली, विदारी कन्द, गिलोय, गोखरु व लौंग को समान मात्रा में लेकर कूटपीस कर छान लें तीन ग्राम इस चूर्ण की मात्रा को प्रतिदिन रात को गुनगुने दूध से ले लें।

औरतों की कमजोरी दूर करने के उपाय

तालमखाना,उगटन के बीज,व बीजबन्द तीनो को 12-12 ग्राम की मात्रा में लेकर सालव मिश्री,शकाकुल मिश्री,सफेद मूसली,काली मूसली सभी द्रव्य 24-24 ग्राम,मखाना फूला हुआ,सिंघाड़े का आटा दोनो 48 -48 ग्राम,कमरकस 72 ग्राम,और कुल बजन के बरावर खांड या फिर मिश्री लेकर सभी औषधियों का कूट पीस कर वारीक चूर्ण कर लें लैकिन ध्यान रखे सबको पहले अलग अलग कूटने के बाद मात्रा तोले बाद में खांड या मिश्री मिलाए।एक एक चम्मच की मात्रा प्रतिदिन सुबह व सांय को दूध के साथ लें।एक मास भी अगर प्रयोग कर लिया जाए तो भरपूर यौवन शक्ति प्राप्त होगी।

वीर्य वृद्धि और शुक्राणुओं को बढ़ाने के 4 विशेष नुस्खे

उड़द की धुली हुयी दाल 30 ग्राम लेकर घी में भूने।फिर 375 ग्राम दूध डालकर पकाऐं जब खीर की भाँति हो जाए तो चीनी मिलाकर आग से उतार लें तथा कुनकुना गर्म गर्म ही खाऐं इस प्रयोग से कामशक्ति औऱ वीर्य की बहुत वृद्धि होती है।

संभोग के बाद कमजोरी की इलाज

100 ग्राम तालमखाने के बीज, 100 ग्राम चोबचीनी, 100 ग्राम ढाक का गोंद, 100 ग्राम मोचरस तथा 250 ग्राम मिश्री को कूट-पीसकर चूर्ण बना लें। रोजाना सुबह के समय एक चम्मच चूर्ण में 4 चम्मच मलाई मिलाकर खाएं।

यह मिश्रण यौन रुपी कमजोरी, नामर्दी तथा वीर्य का जल्दी गिरना जैसे रोग को खत्म कर देता है।

संभोग के बाद कमजोरी की घरेलू नुस्खे

पीपल का फल और पीपल की कोमल जड़ को बराबर मात्रा में लेकर चटनी बना लें। इस 2 चम्मच चटनी को 100 मि.ली. दूध तथा 400 मि.ली. पानी में मिलाकर उसे लगभग चौथाई भाग होने तक पकाएं। फिर उसे छानकर आधा कप सुबह और शाम को पी लें। इसके इस्तेमाल करने से वीर्य में तथा सेक्स करने की ताकत में वृद्धि होती है।

संभोग के बाद कमजोरी की आयुर्वेदिक इलाज

बच्चा पैदा करने के लिए सिर्फ एक बलशाली शुक्राणु की जरूरत होती है, जो स्त्री के अंडाणु से संयोग कर गर्भ में परिवर्तित होता है। वीर्य में शुक्राणुओं की कमी होने या शुक्राणु कमजोर होने पर बच्चे पैदा करने में परेशानी होती है। जामुन की गुठली का चूर्ण रोज गर्म दूध के साथ खाने से धातु (वीर्य) का खत्म होना बन्द हो जाता है।

संभोग के बाद कमजोरी की देशी दवा

छुहारे को दूध में देर तक उबालकर खाने से और उसी दूध को पीने से नपुंसकता खत्म होती है। रात को पानी में दो छुहारे और 5 ग्राम किशमिश भिगो दें। सुबह को पानी से निकालकर दोनों मेवे को दूध के साथ खायें।

शारीरिक कमजोरी के कारण

रामबाण नुस्खा :- इसके लिए शतावरी, गोखरू, बड़ा बीजबंद, बंशलोचन, कबाब चीनी, कौंच के छिलकारहित बीज, सेमल की छाल, सफेद मुसली, काली मुसली, सालम मिश्री, कमल गट्टा, विदारीकंद, असगन्ध सब 50-50 ग्राम और शक्कर 300 ग्राम, सभी द्रव्यों को अलग-अलग कूट-पीसकर कपड़छान कर लें। शक्कर को भी पीसकर महीन कर लें और सभी को मिला लें व तीन बार छान लें, ताकि एक जान हो जाएं। सुबह-शाम एक-एक चम्मच चूर्ण मीठे दूध के साथ 60 दिन तक सेवन करें और इसके बाद वीर्य की जाँच करवाकर देख लें कि शुक्राणुओं में क्या वृद्धि हुई है।
पर्याप्त परिणाम न मिलने तक प्रयोग जारी रखें।

आपको जानकारी कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताये और जितना हो सके इस जानकारी को फेसबुक, ट्विटर, गूगल+ और व्हाट्सएप्प पर शेयर जरुर करें.
EmoticonEmoticon