नपुंसकता का 100% आयुर्वेदिक इलाज, Ayurvedic treatment of impotence



नपुसंकता क्या होती है?

जो व्यक्ति यौन संबन्ध नहीं बना पाता या जल्द ही शिथिल हो जाता है वह नपुंसकता का रोगी होता है। इसका सम्बंध सीधे जननेन्द्रिय से होता है। इस रोग में रोगी अपनी यह परेशानी किसी दूसरे को नहीं बता पाता या सही उपचार नहीं करा पाता मगर जब वह पत्नी को संभोग के दौरान पूरी सन्तुष्टि नहीं दे पाता तो रोगी की पत्नी को पता चल ही जाता है कि वह नंपुसकता के शिकार हैं। सेक्स लाइफ़ में इस अधूरेपन के कारण मनमुटाव और तलाक़ तक की नौबत आ जाती है। कुछ केस में तो यहां तक देखा जाता है कि महिला के संबंध किसी अन्य पुरुष के साथ स्थापित हो जाते हैं
बहुत से लोगों में कामवासना तो बहुत होती है और उनका लिंग भी खड़ा रहता है मतलब वह पूरी तरह सामान्य होते हैं, लेकिन उनकी लिंग में यौन सम्बन्ध के दौरान अंत तक तनाव (कड़कपन ) नहीं रहता जिसकी वजह से वो अपने पार्टनर को पूर्णतः संतुष्ट नहीं कर पाते। कुछ पुरुष जब अपनी पार्टनर के साथ यौन क्रीड़ा कर रहे होते हैं तो उस दौरान ही उनका वीर्य स्खलन हो जाता अर्थात महिला पार्टनर की योनि में पुरुष अपना लिंग अन्दर डालने से पहले या थोड़े ही समय में उनका वीर्य निकल जाता है। इस तरह से वो अपनी पत्नी को खुश नहीं कर पाते और ना ही खुद संतुष्ट हो पाते हैं। इसी यौन कमजोरी को आयुर्वेद में नपुंसकता कहा जाता है।

नपुंसकता के लक्षण

पुरुष के वीर्य में शुक्राणुओं की मात्रा में कमी होना

वीर्य में स्वस्थ शुक्राणुओं का प्रतिशत बेहद कम होना नपुंसकता के लक्षण हैं ।

वीर्य में इतने शुक्राणुओं का न होना, जिससे व्यक्ति संतान पैदा कर सके |

स्त्री को संतुष्ट करने से पहले ही पुरुष का वीर्य निकल जाना।

🔹कामेच्छा में कमी होना |
🔹रति क्रीड़ा में अक्षम होना |

स्त्री के स्पर्श, आलिंगन व मधुर व्यवहार के बावजूद भी लिंग में बिल्कुल भी उत्तेजना न होना भी नामर्दी के लक्षण हैं |

लिंग में उत्तेजना होने के बावजूद इसका एकदम से समाप्त हो जाना भी नपुसंकता के लक्षण हैं |

नपुंसकता के कारण

लम्बे समय से लगातार बार बार हस्त्मेथुन करने से व्यक्ति की सम्भोग शक्ति ख़त्म हो जाती है।

🔹यदि किसी पुरुष के शरीर में लम्बे समय से कोई बड़ी बीमारी होती है जैसे टीबी, मधुमेह, ह्रदय रोग इत्यादि से।
🔹नशीले पदार्थ जैसे शराब, बीड़ी, गुटखा, सिगरेट इत्यादि को लम्बे समय तक सेवन करने से।
अत्यधिक मोटापा, स्वप्न दोष, लिंग का ज्यादा छोटा होना।
लिंग या गुप्तांग में चोट लगने से ।
🔹यदि कोई व्यक्ति लम्बे समय से tension या मानसिक परेसानी से ग्रसित है।

🔹कुछ व्यक्ति जन्म से ही नामर्द होते हैं।

क्या खाएं एवं क्या ना खाएं
जो व्यक्ति बहुत समय तक किसी बीमारी से पीड़ित रहते हैं उनको शारीरिक कमजोरी के साथ साथ वीर्य में पतलापन होने के कारण मर्दाना कमजोरी महशूश करते हैं ऐसे लोगों को कुछ महीने के लिए सहवास करना बंद करके पौष्टिक खाना जैसे जूस, दूध, घी, मख्खन, सूखा मेवा और फलों का सेवन ज्यादा करना चाहिए।

नामर्दी दूर करने के उपाय

दूध में छुहारे डालकर बढ़िया उबालने के बाद पीने से यौन दुर्बलता मैं फायदा होता है।

नपुंसकता के रोगी को प्रतिदिन हल्के व्यायाम करना बहुत जरुरी होता है।
तेल, मिठाई, ज्यादा मिर्ची वाला भोजन के सेवन से बचना चाहिए। और साथ ही नशीली चीजों से भी दूर रहना चाहिए।

मर्दाना कमजोरी का घरेलू इलाज

नपुंसकता मैं हमारी BigPower Kit का बहुत ही शानदार रिजल्ट देखने को मिला है

इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें ताकि नपुंसकता के रोगियों को इसका फायदा मिल सके।

👉 पित्त की पथरी का घरेलू इलाज 

आपको जानकारी कैसी लगी कमेंट करके जरुर बताये और जितना हो सके इस जानकारी को फेसबुक, ट्विटर, गूगल+ और व्हाट्सएप्प पर शेयर जरुर करें.
EmoticonEmoticon